Media Coverage

Obesity in children during less age group

Hindustan Logo

उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों जैसे फास्ट फूड, शर्करा युक्त खाद्य पदार्थों और अन्य तली हुई खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन बच्चों में मोटापे के प्रमुख कारणों में से एक है। इसके अलावा, अस्वास्थ्यकर और कैलोरी युक्त खाद्य पदार्थों के टीवी विज्ञापन इन वस्तुओं की बढ़ती मांग में योगदान करते हैं। ये इतने आकर्षक होते हैं कि बच्चे इन वस्तुओं को नियमित रूप से खरीदने की मांग करते हैं और बच्चे इनका नियमित रूप से अधिक सेवन करते हैं और मोटापे से पीड़ित होते हैं।

Don’t Fall for It: In a world of food theories and counter theories, bust the biggest eating myths

Carbs make you fat, smoothies make you thin. Count your calories, but restrict your meat intake. To separate facts from fiction, we get to the bottom of the biggest food myths and the truth behind them.

Leading causes of lifestyle disorders

Lifestyle disorders are a major cause of death in almost every country now. The occurrence of these problems is not a one-day process; people suffer due to long-time ignorance of their health care. Some of the lifestyle disorders are obesity, diabetes, cardiovascular diseases, cancers, strokes, Chronic Obstructive Pulmonary Disease (COPD), arthritis, and mental health issues.

Here are some of the major causes of lifestyle disorders

Lifestyle disorders are a major cause of death in almost every country now. The occurrence of these problems is not a one-day process; people suffer due to long-time ignorance of their health care. Some of the lifestyle disorders are obesity, diabetes, cardiovascular diseases, cancers, strokes, Chronic Obstructive Pulmonary Disease (COPD), arthritis, and mental health issues.

कोविड से रिकवरी के बाद डायबिटीज रोगी कमजोरी दूर करने के लिए अपनाएं ये डाइट टिप्स

कोरोना वायरस (Corona Virus) का सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों को है, जो पहले से ही किसी न किसी बीमारी से जूझ रहे हैं। इनमें मधुमेह यानी डायबिटीज (Diabetes) सबसे सामान्य है। डायबिटीज रोगियों को कोरोना वायरस का अधिक जोखिम होता है। क्योंकि शुगर लेवल (Sugar Level) बढ़ने पर शरीर में इम्यूनिटी (Immunity) कमजोर होने लगती है और रोगी का जोखिम काफी हद तक बढ़ जाता है।

आहार विशेषज्ञ से जानें: भोजन से कैसे अधिकतम मात्रा में प्राप्त कर सकते हैं विटामिन सी और जिंक?

कोविड संक्रमण के दौरान विशेषज्ञ खान-पान के माध्यम से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने पर जोर दे रहे हैं। इम्यूनिटी को मजबूती देने में विटामिन सी और जिंक सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व माने जाते हैं। इसकी पर्याप्त मात्रा रोगजनकों के कारण होने वाली बीमारियों से लड़ने में शरीर की मदद करती है। आहार विशेषज्ञ कहते हैं कि हम अपने भोजन के माध्यम से इन दोनों पोषक तत्वों की आसानी से पूर्ति कर सकते हैं। कई खाद्य पदार्थों को विटामिन सी और जिंक से भरपूर माना जाता है। कई लोग उचित आहार तो लेते हैं लेकिन उनको कोई लाभ नहीं मिलता है, ऐसे में यह सुनिश्चित करना जरूरी हो जाता है कि हमारा शरीर इन पोषक तत्वों को ठीक से अवशोषित कर रहा है।

How to prepare healthy meal boxes for COVID-19 patients

The spike in COVID-19 infections in India has given rise to a growing community of restaurants, home chefs, cooks, helpful neighbors and Good Samaritans offering to feed COVID-19 patients and their caregivers in home isolation as well as hospitals.

ThinkYou Offers Science-Based Diet Plans for a Healthy Journey

New Delhi / Mumbai (Maharashtra), India, Oct 28 (ANI/BusinessWire India): ThinkYou is a team of experienced health professionals in the field of diet therapy, the team consist of renowned senior Nutritionists and Doctors.

ThinkYou Offers Science-Based Diet Plans for a Healthy Journey

New Delhi / Mumbai (Maharashtra), India, Oct 28 (ANI/BusinessWire India): ThinkYou is a team of experienced health professionals in the field of diet therapy, the team consist of renowned senior Nutritionists and Doctors.

Daily Hunt: ThinkYou Offers Science-Based Diet Plans for a Healthy Journey

A team of Doctors and Nutritionist (www.thinkyou.in) analyse scientifically the body’s exact nutritional requirements with the help of blood test reports, height-weight, BMI-BMR, Fat percentage, Medical history and Doctor’s recommendation. Based on these, the team will prepare a customized nutrition-dense delicious meal plan, so that one can achieve their desired health goals while enjoying mouth-watering delicious meals!

Only My Health: हेल्दी रहने के लिए जरूरी है एक दिन में इतना पोषक तत्व लेना, डायटीशियन से जानें इसके बारे में

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार हमें रोज एक निश्चित मात्रा में कैलोरीज (Calories), प्रोटीन (Protein), फैट (Fat), कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrates), विटामिंस (Vitamins), मिनरल्स (Minerals) और एंटीऑक्सिडेंट्स (Anti-Oxidants) जैसे पोषक तत्वों की जरूरत होती हैं। ये सभी पोषक तत्व हमें चुस्त-दुरुस्त रखने और ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करते हैं। अगर शरीर में इन पोषक तत्वों की कमी हो जाए, तो कई तरह की गंभीर बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ लक्षण तो जल्दी दिखने लगते हैं जैसे- थकान, वजन बढ़ना या कम होना, कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता, कब्ज, बालों का झड़ना। अगर इन संकेतों को लंबे समय तक अनदेखा किया जाए तो ये गंभीर बीमारियों का कारण भी बन सकते हैं। इसलिए बीमारियों से बचने के लिए हमें रोजाना संतुलित और पोषक तत्वों से भरपूर भोजन लेना चाहिए। संतुलित भोजन शरीर के पोषक तत्वों की सभी जरूरतों को पूरा करता है और हमें ऊर्जावान बनाए रखता है। मुख्य आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ हिमांशु राय से जानें किसे कितनी मात्रा में लेने चाहिए पोषक तत्व-

Only My Health: अपने शिशु के लिए घर पर इन 12 तरीकों से बनाएं स्वस्थ आहार, डायटीशियन से जानें इनके बारे में

जब बच्चा जन्म लेता है, तो उसका सबसे पहला भोजन मां का दूध होता है। उसे कुछ महीनों तक सिर्फ मां का ही दूध पिलाया जाता है। लेकिन जैसे-जैसे बच्चा बढ़ा होता है, उसे दूसरी चीजों का सेवन करवाना भी शुरू कर दिया जाता है। अकसर बच्चे को 5 या 6 महीने की उम्र से हल्का भोजन खिलाना शुरू कर दिया जाता है, जिससे बच्चे का शारीरिक और मानसिक विकास ठीक तरह से हो सके। हर मां अपने बच्चे के पूर्ण रूप से शारीरिक विकास के लिए उसे कई चीजों को सेवन करवाना शुरू कर देती हैं। कभी-कभी तो वे सामान्य भोजन से उसे खिला देती हैं, लेकिन ऐसा करना सही नहीं है। बच्चे को उसकी उम्र के हिसाब से खाना खिलाया जाना चाहिए, ताकि वे उसे आसानी से पचा सकें। इसके अलावा बच्चे के शुरुआत में हल्का और मीठा भोजन करवाना चाहिए, क्योंकि इसे बच्चे शौक से खाना पसंद करते हैं। इसके लिए आप फलों का इस्तेमाल कर सकती हैं, फलों में नैचुरल शुगर (Natural Sugar) होता है, जो सेहत को नुकसान नहीं पहुंचाती है। आप अपने बच्चे को फलों से बना भोजन खिला सकती हैं। इसके लिए आप अलग-अलग तरह के फलों का इस्तेमाल करें और रोज उसे अलग फल से बना भोजन खिलाएं। फलों में उच्च मात्रा में सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते हैं और इसके सेवन से बच्चे का शारीरिक विकास भी तेजी से होता है। मुख्य आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ हिमांशु राय से जानें शिशुओं के स्वस्थ आहार के बारे में-   

Shaadiwish.com: Best Dietitian For Beauty Care In Delhi | Himanshu Rai

If you’re someone who has struggled with fluctuating body weight and keeping up with healthy diets, ThinkYou has got your back. ThinkYou is a team of experienced health professionals in the field of diet therapy consisting of renowned senior dietitians/nutritionists and doctors. They aim to provide scientifically proven diets for a healthy lifestyle. And Himanshu Rai is one of the best dietitians/nutritionists in Delhi with over 14 years of experience. He is the co-founder and the CEO of ThinkYou, which is managed by a team of nutritionists/dietitians, and doctors. ThinkYou provides both online and offline diet therapy for different nutritional disorders. Not only from Delhi/NCR, but also from different parts of India and overseas also!

Deccanchronicle.com: Immunity Shots

Only My Health: वजन घटाने में फायदेमंद है पपीते के बीज का पाउडर, डायटीशियन से जानें इसके अन्य फायदे और इसे खाने तरीका

आपने यह तो जरूर सुना होना कि पपीता पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें विटामिन ए (Vitamin A), विटामिन सी (Vitamin C) और विटामिन ई (Vitamin E) पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। इसके साथ ही पपीता नियासिन (Niacin), मैग्नीशियम (Magnesium), पोटैशियम (Potassium), कैरोटीन और फाइबर (Fiber) युक्त भी होता है। पपीते के पेड़ का हर हिस्सा जैसे पत्ते और फल औषधीय गुणों से भरे होते हैं। इनमें कई तरह के ऐसे पोषक तत्व होते हैं, जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए जरूरी होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पपीते के बीज को इस्तेमाल करना भी फायदेमंद हो सकता है। इसमें भी कई मिनरल्स (Minerals), विटामिंस (Vitamins) पाए जाते हैं। पपीते के बीज का पाउडर वजन कम करने में मददगार हो सकता है। पपीते की तरह ही इसका बीज भी स्वास्थ्य को फायदा पहुंचाता है। तो अब पपीता खाने के बाद इसके बीजों को फेंकने की जगह संभालकर रखें। इसके बीजों का पाउडर बनाएं और इस्तेमाल में लाएं। यह आपकी त्वचा के साथ ही स्वास्थ्य के लिए भी बेहतर है। सुखाकर और पीसकर पपीते के बीजों का सेवन किया जा सकता है। लेकिन इसका सेवन सीमित मात्रा में ही किया जाना चाहिए, अधिक मात्रा में इसे खाने से बचें। नहीं तो आपको इसके कुछ सामान्य से साइड इफेक्ट भी नजर आ सकते हैं। लेकिन अगर इसे तरीके और सही मात्रा में खाया जाए तो स्वास्थ्य को बेहद फायदे मिलते हैं। मुख्य आहार विशेषज्ञ और पोषण विशेषज्ञ हिमांशु राय डायटीशियन से जानें पपीते के बीज का पाउडर खाने के फायदे और इसे खाने का सही तरीका:

Bizzbuzz.news: Helping people master the art of eating intelligently

ThinkYou.in, a startup advises clients to eat tasty andnutritious meals while maintaining their health“To eat is a necessity, but to eat intelligently is an art,” says Himanshu Rai, CEO and Co-Founder, ThinkYou.in. The New Delhi-based startup has a team of experienced health professionals in the field of diet therapy who firmly believes and advises clients to eat tasty and nutritious meals while maintaining their health. The team consists of renowned senior nutritionists, doctors and veteran senior persons from the food and nutrition industry. The aim is to break myths about food and nutrition and educate people to live a healthy lifestyle with the help of decade-old experience

Decoding Rise Of PCOS In Women

"The causes of PCOS are unclear, but an early diagnosis can help relieve symptoms and reduce the risk of complication"

Polycystic ovary syndrome (PCOS) is a hormonal disorder and generally found in young females, it is on the rise these days, due to a sedentary lifestyle, academic load, unhealthy diet and less physical activity. In PCOS, early diagnosis & treatment can help manage the symptoms of PCOS, however weight control is the key to control this unhealthy issue.

Following are some of the complications associated with PCOS in women:

Traditional cooling drinks for summers

With its diverse culinary geography, India’s rich history of traditional foods and drinks is unparalleled. As the temperatures peak, try some of these seasonal health drinks.

Pin It on Pinterest

× How can I help you?